राष्ट्रीय

आखिर क्यों पूर्व IAS अफसर हो गए मोदी कैबिनेट विस्तार के खिलाफ ?

आखिर क्यों पूर्व IAS अफसर हो गए मोदी कैबिनेट विस्तार के खिलाफ ?

 IAS अफसर
image source social media

पीएम नरेंद्र मोदी ने बीते बुधवार को अपने नए मंत्रिमंडल का विस्तार किया, जिसमे उन्होंने कई नए चेहरों को कैबिनेट में शामिल किया तो वहीँ कई दिग्गज नेताओं की छुट्टी भी कर दी| कैबिनेट के नए चेहरों में नारायण राणे, ज्योतिरादित्य सिंधियां, सर्बानंद सोनोवाल,पशुपति कुमार पारस,मनसुख मांडविया और भूपेन्द्र यादव जैसे लोग शामिल हुए|

मंत्री मंडल के विस्तार के बाद से ही भाजपा व मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गयी| वहीँ हाल ही में पूर्व IAS सूर्य प्रताप सिंह ने भी नारायण तातू राने को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी व भाजपा पर तंज कसा|

आइये सबसे पहले आपको बताते है नारायण राने कौन है-

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के पूर्व नेता नारायण राणे का भी राज्य के भाजपा मंत्रिमंडल में शामिल होने की अटकलें थी लेकिन अभी हाल ही में नए मंत्रिमंडल में शामिल हो गए है. राणे और उनके परिवार पर बीजेपी ने भ्रष्टाचार के खूब आरोप लगाए थे. शिवसेना में रहते हुए राणे 1999 में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री थे.

अभी राणे ने अपनी नई पार्टी ‘महाराष्ट्र स्वाभिमान पक्ष’ गठित की है. नारायण राणे पर मनी लॉन्ड्रिंग का भी केस चल रहा है. मराठा समुदाय से ताल्लुक रखने वाले राणे की कोंकण क्षेत्र में काफी पकड़ है जिसका फायदा शायद भाजपा उठाना चाहती है.

आइये बताते है आपको पूर्व IAS ने ट्वीट कर क्या तंज कसा भाजपा पर-

पूर्व IAS सूर्य प्रताप सिंह ने बरायन राणे ने नारायण तातू राने का जिक्र करते हुए ट्वीट किया, जिसमे उन्होंने लिखा ” जिस नारायण राणे पर भाजपा ने कला धन सिंचित करने और गंभीरतम भ्रस्टाचार में लिप्त होने की बात कही थी, वो अब केन्द्रीय कैबिनेट में है और msme जैसे भारी भरकम मंत्रालय के मालिक भी है|

सूर्य प्रताप यही नहीं रुके उन्होंने अपने एक ट्वीट में कृपाशंकर सिंह का जिक्र करते हुए लिखा, 26/11 rss की साजिश’ पुस्तक का विमोचन करने वाले कृपाशंकर सिंह अब भाजपा में है मेटरस्ट्रोक|

पूर्व IAS के इन ट्वीट को लेकर सोशल मीडिया यूजर ने भी जमकर रिएक्शन दिए| इसी पर नोमान नाम के एक यूजर ने सूर्य प्रताप सिंह के ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा, सिर ये सब प्यादे या कठपुतली है सबकी बागडोर मोदी जी के पास है| वो सिर्फ गद्दी पर बैठेगे निर्णय तो मोदी ही लेगेग| आलोक सिंह नाम ए एक यूजर ने लिखा इनकी पार्टी में या तो ऐतिहासिक कार्य किये जाते है या फिर मास्टरस्ट्रोक|

ट्वीट पर आने वाले कमेंट यही नहीं थमे एक यूजर ने भाजपा पर तंज कसते हुए लिखा की जो भाजपा में गया वो कभी चोर था ही नहीं| वहीँ प्रवीन नाम के एक यूजर ने लिखा की इससे भ्रष्ट सरकार कभी नहीं होगी| एक अन्य उसे ने लिखा की भाजपा ने मंत्रियों पर लगे सारे दाग धो दिए| आपकी जानकारी के लिए बता दे की सूर्य प्रताप सिंह ने

इससे पहले सपा महिला प्रस्तावक के साथ हुई बदसलूकी पर भी गुस्सा जाहिर किया था| उन्होंने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए लिखा “महिला की साडी खीचने वालों अपनी गन्दी जुबान से आज के बाद मर्यादा पुरोषोत्तम की जुबान मत निकालना|

वैसे तो सियासी समीकरण को साधने के लिए दागदार छवि वाले नेताओं को पार्टी में शामिल करना कोई नई बात नहीं है लेकिन भाजपा जो अपने आप को ‘पार्टी विद ए डिफरेंस’ का नारा देते रही है, लगता है वो अब कुछ भी अलग नहीं कर रही और सत्ता में रहने के लिए कुछ भी करने को तैयार है.

हालांकि इन सबसे उसे कितना फायदा होगा या पार्टी की छवि को कितना नुकसान होगा, हो सकता है आने वाले चुनाव नतीजों में इसकी झलक देखने को मिल जाए|

नेहा परिहार

शेयर करें
COVID-19 CASES