Uncategorized राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश सरकार ने क्यों किया लैब्स को टेस्टिंग के लिए मना |

उत्तर प्रदेश से सामने आई चौकाने वाली खबर

देश में हर बदलते दिन के साथ कोरोना का विकराल रूप हम सब के सामने आ खड़ा हो रहा हैं, जिसके कारण क्या सत्ता क्या प्रसाशन क्या आम जनता सब के बीच एक भय का माहौल बन गया हैं|

इसे भी पढ़े:-BIHAR CORONA: कोरोना से बिहार की हालत हाफ़ने लगी, आधे से ज्यादा डॉक्टर्स के पद खाली|

बीते 24 घंटे में देश मे लगभग 2 लाख से अधिक कोरोना के नये मामले सामने आये हैं और पिछले 24 घंटे में 1034 मौत दर्ज की गयी हैं कोरोना अब लोगो को भयभीत नहीं कर रहा हैं|

अब मौत सामने से आम जनता को चुनौती दे रही हैं की अगर अब भी नहीं संभले तो आप भी या आपका कोई अपना परिजन काल के ग्रास में समा सकता हैं|

अब आपको ले चलते हैं देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश की और जहा दिन प्रतिदिन कोरोना सरकार की चिंता का विषय बन गया हैं|

बीते 24 घंटे में उत्तर प्रदेश कोरोना के नए मामले आये 27,360 और मौत का आंकड़ा रहा हैं और कुल 103 लोगो की दुर्भाग्य पूर्ण मौत हो गयी|

अब जब उत्तर प्रदेश का पूरा स्वास्थ्य सिस्टम कोरोना के आगे नतमस्तक हो गया हैं, प्रधानमन्त्री के दिशा निर्देशों के अनुसार हमें जाच बढाने की आवश्कता वाले सुझाव का संज्ञान लेते हुए प्रदेश की योगी सरकार सूबे के आला|

उत्तर प्रदेश में अधिकारियो को सलाह दी की जांच को बढाया जाया और जांच को प्रतिदिन लगभग 1.50 लाख तक पहुचाया जाए, निर्देश अनुसार अधिकारी इस काम में भी लग गए और उन अधिकारियो ने वर्चुअल माध्यम से मुख्यमंत्री को सूचित किया की जांच इसलिए कम हुई की कई निजी लैब ने जांच करना बंद कर दिया हैं,जिस कारण जांच कम हो रही हैं|

लेकिन अधिकारियो के इस अलफनामे की पोल वहा की निजी लैब ने खोल दी उन्होंने ने बताया की अधिकारियो ने उन्हें खुद जांच करने से माना किया और वो पिछले 10 दिन से कोई जांच नहीं कर रहे हैं, जिन लैब ने यह आरोप लगाया उनमे मुख्य रूप से डॉक्टर लाल path लैब और SRL Diagnostic शामिल हैं|

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं कोरोना पॉजिटिव 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री खुद कोरोना की वजह से बंद हैं और उनका स्वास्थ्य सिस्टम भी प्रदेश के बिगड़ते हालात में फस के बंद हो गया हैं|

यह हाल तब हैं जब उत्तर प्रदेश के मात्र 10 जिलो से अधिकतम कोरोना के मामले आये हैं, आप सोचिये अगर प्रदेश के बाकी हिस्सों के हालात भी उन 10 जिलो की तरह हो गयी तो परिस्थितया बद से बदतर हो जायेंगी फिर न जलाने के लिए श्मशान और न दफनाने के लिए कब्रिस्तान|

इसे भी पढ़े:-कोरोना कि दूसरी लहर के बाद बेकाबू हुए कोरोना के मामले |

इसलिए घर पर रहिये और जब तक जरूरत न हो तब तक घर से बाहर न निकले नहीं तो आप भी अपने परिजनों को खो बैठेंगे और आपके पास विलाप के अलावा कोई और विकल्प नहीं बचेगा |

रिपोर्ट- नेहा परिहार 

मीडिया दरबार 

शेयर करें
COVID-19 CASES