विचार

एम्स में हुआ Corona Blast 

एम्स में हुआ Corona Blast

राजधानी दिल्ली में कोरोना का प्रकोप बहुत तेजी से फैलने लगा है। ऐसे में प्रशासन की ओर से एहतियाती कदम तो उठाए ही जा रहे हैं, साथ में अस्पताल भी सावधानी बरत रहे हैं। दिल्ली स्थित देश के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल एम्स के 35 डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। सबसे बड़ी बात है कि ये सब डॉक्टर कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगवा चुके हैं।

देश की राजधानी दिल्ली में बने देश के सबसे बड़े अस्पताल एम्स पर भी कोरोना के खौफ का असर दिखाई देने लगा है. कोरोना के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए एम्स की सभी जनरल ओटी में कटौती करने का बड़ा फैसला लिया गया है. 10 अप्रैल से सभी जनरल ओटी में कटौती शुरु हो जाएगी. ओपीडी की भीड़ और कोरोना को देखते हुए ओपीडी (OPD) में पहले से ही कटौती कर दी गई है. अब ओटी के बारे में बड़ा फैसला लिया गया है.

एम्स के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ. डीके शर्मा के मुताबिक सिर्फ इमरजेंसी केस में ही ओटी खोली जाएगी. गौरतलब रहे कि एम्स की जनरल ओटी में कटौती करने से सबसे ज्यादा परेशानी दिल्ली से बाहर के आने वाली मरीजों को होगी. सबसे ज्यादा मरीज बिहार और यूपी से आते हैं. एम्स में भी कोरोना के मरीज आ रहे हैं, इसके चलते यह बीमारी दूसरे आम मरीजों को न हो जाए इसलिए यह फैसला लिया गया है.

ओपीडी के मामले में भी एम्स प्रशासन ने कई ऐहतियात वाले कदम उठाए हैं. अब सिर्फ ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराने वाले ही ओपीडी के मरीज देखे जाएंगे. ऐसे मरीज भी रोजाना 50 से ज्यादा नहीं देखे जाएंगे. ध्यान रहे कि ओपीडी में अगले एक महीने के लिए फेरबदल किया गया है. इससे पहले गंगाराम अस्पताल के 37 डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव मिले के जिनमें से पांच अस्पताल में ही भर्ती हैं. अन्य डॉक्टरों को होम आइसोलेशन में रखा गया है.

जानकारी के अनुसार इनमें से ज्यादातर डॉक्टर वे हैं जो कोरोना मरीजों का इलाज कर रहे थे. अस्पताल प्रशासन के अनुसार सभी डॉक्टरों में माइल्ड सिम्टम्स हैं और कोई भी गंभीर हालत में नहीं है.

रिपोर्ट – रूचि पाण्डेय

मीडिया दरबार

शेयर करें
COVID-19 CASES