अंतर्राष्ट्रीय

कोरोना को विश्व भर में फ़ैलाने के लिए चीन जिम्मेदार-लि-मेंग यान

देश और दुनिया में कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैलता जा रहा है. अब तक विश्व भर में कोरोना से लगभग 1 करोड़ 22 लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं, वहीं दूसरी और  भारत  भी कोरोना से अछूता नहीं रहा, यहाँ भी कोरोना के मामलो की संख्या का आकड़ा 8 लाख के पार पहुंच गया   है. दूसरी और विश्व इस बात की जाँच कर रहा है  कि आखिर इसकी शुरुआत किस देश से हुई, हालांकि अमेरिका सहित कई देशों ने इसके लिए चीन को ही जिम्‍मेदार ठहराया है. अब चीन की भूमिका को  लेकर एक और बड़ा खुलासा हुआ है. जिससे इस  दावे  की पुष्‍टि होती नजर आ रही है कि कोरोना संक्रमण के लिए चीन ही जिम्‍मेदार है.

दरअसल मामला हांगकांग की एक वायरोलॉजिस्‍ट से जुड़ा है,  जान बचाकर हांगकांग से अमेरिका पहुंची वैज्ञानिक ने बताया कि कोरोना वायरस की जानकारी चीन ने छिपायी है. हांग-कांग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ में वायरोलॉजी और इम्यूनोलॉजी की विशेषज्ञ लि-मेंग यान ने फॉक्स न्यूज को दिए अपने साक्षात्‍कार में बताया कि कोरोना वायरस को लेकर चीन को पहले से ही जानकारी थी और चीन ने  काफी दिनों बाद दुनिया को उसके बारे में जानकारी दी.

उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी की शुरुआत में उनकी रिसर्च को उनके सुपरवाइजर्स ने भी इग्नोर किया, यान ने कहा कि वो इस फील्‍ड की काफी पुरानी एक्‍सपर्ट हैं, अगर सही समय पर चीन विश्व समुदाय को इस संक्रमण की  जानकारी देता तो लाखो लोगों की जिंदगी बचाई जा सकती थी.

लि-मेंग यान ने बताया, चीन सरकार ने विदेशी और हांगकांग के विशेषज्ञों को भी रिसर्च में शामिल करने से इनकार कर दिया था, चीनी सरकार ने कोरोना वायरस की चर्चा पर भी रोक लगा दि थी.

उन्‍होंने बताया कि चीनी सरकार के आदेश के बाद वुहान के डॉक्टरों और शोधकर्ताओं ने चुप्पी साध ली और दूसरों को भी चेतावनी दी गई कि उनसे ब्योरा ना मांगा जाए. यान ने दावा किया है कि उनकी जान को चीन और हांगकांग में खतरा है, वह हांगकांग से अपनी जान बचाकर भागी. यान ने बताया कि अगर वो वहां से नहीं भागी रहती तो उन्हें पकड़कर जेल में डाल दिया जाता या फिर गायब कर दिया जाता. यान ने यह भी बताया कि चीनी सरकार उनकी प्रतिष्‍ठा धूमिल करना चाहती है. उन्होंने चीन की शी जिनपिंग सरकार पर आरोप लगाया कि सरकार द्वारा उन पर साइबर अटैक कराया जा रहा है.

गौरतलब है कि अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने कई बार आरोप लगाया है कि चीन ने पूरी दुनिया में कोरोना वायरस को फैलाया. अमेरिका ने कोरोना के लिए WHO को भी जिम्‍मेदार ठहराया और उससे नाता भी तोड़ लिया. अमेरिका आरोप है कि WHO ने भी चीन के साथ मिलकर कोरोना वायरस से जुड़ी जानकारी छिपायी और विश्व को संक्रमण के खतरे में डाला.

यान ने कहा कि हांगकांग सरकार ने उनके छोटे से अपार्टमेंट को भी तोड़ दिया और उनके माता-पिता से भी पूछताछ की। वह कहती हैं कि अब भी उनकी जान को खतरा है,  उन्हें यह भी डर है कि दोबारा कभी वह अपने घर जाकर दोस्तों और परिवार के लोगों से नहीं मिल पाएंगी। उन्होंने बताया कि हांगकांग यूनिवर्सिटी ने भी उनके पेज को हटा दिया है और ऑनलाइन पोर्टल और ई-मेल तक पर उनके एक्सेस को बंद कर दिया है।

अब देखना यह है की चीन की तरफ से इस पुरे प्रखरण पर कोई आधिकारिक बयान आता है क्या? और देखने वाली बात ये भी होगी की क्या अमेरिका विशेषज्ञ की बात को आधार बना कर चीन और WHO पर नये सिरे से कूटनीतिक हमला करेगा?

राकेश मोहन सिंह – मीडिया दरबार

देश और दुनिया कि ताज़ातरीन खबरों के लिए जुड़े रहिये – मीडिया दरबार

शेयर करें
Live Updates COVID-19 CASES