धार्मिक

गंगा सप्तमी के पावन अवसर पर करें ये उपाय, होगी धनप्राप्ती !!

गंगा सप्तमी के पावन अवसर पर करें ये उपाय, होगी धनप्राप्ती !!

गंगा सप्तमी
image source social media

गंगा सप्तमी वो तिथि जिसे लेकर मान्यता है कि इसी दिन माँ गंगा स्वर्ग लोक से भगवान शिव की जटाओं में विराजमान हुई थी। इसी तिथि को गंगा सप्तमी के रुप में भी जाना जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार इस बार गंगा सप्तमी 18 मई को मनाई जा रही है। मान्यताओँ के अनुसार हर साल वैशाख महीने में शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को गंगा सप्तमी मनाई जाती है, हम सभी ने कई पौराणिक कथाओं में सुना है कि श्रृषि भगीरथ की कठोर तपस्या से प्रसन्न हो कर ही माँ गंगा ने धरती पर कदम रखा था।

इस बार गंगा सप्तमी के अवसर पर बहुत शुभ मुहुर्त का योग बन रहा है जिसमें केवल कुछ ही उपाय करने से धन लाभ हो सकता है। गंगा सप्तमी के दिन दान पुण्य करने को बहुत शुभ और फलदायक माना जाता है। माना जाता है कि इस दिन गंगा स्नान, तप , ध्यान , पूजा पाठ और दान करने वाले व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति होती है। तो चलिए जानते है उन उपायों के बारे में जिससे व्यक्ति धन और आरोग्यता का वरदान प्राप्त कर सकता है।

सबसे पहले तो गंगा सप्तमी के अवसर पर गंगा में डुबकी लगाना बहुत शुभ माना जाता है। लेकिन कोरोना काल को देखते हुए आप घर में रखें गंगा जल को नहाने के पानी में मिलाकर भी स्नान कर सकते है। इससे भी आपको शुभ फल ही प्राप्त होगा। माँ गंगा की कृपा भी आप पर बनी रहेगी।

धन वृध्दी के लिए किए जाने वाले उपाय में –

गंगा सप्तमी के दिन सुबह सुबह नहा कर चाँदी या स्टील के लोटे में गंगा जल भर कर उसमें 5 बेलपत्र डालें और किसी मंदिर में जाकर भगवान शिव पर ऊँ नम: शिवाय् का जाप करते हुए शिवलिंग पर जल अर्पित करे। इसके बाद शिवलिंग पर बेलपत्र आदि सभी पूजा की सामग्री अर्पित करे। इससे धन धान्य की वृध्दी होगी साथ ही रोज़गार के भी अवसर बढेंगे।

इस बार गंगा सप्तमी का शुभ मुहूर्त

मंगलवार, 18 मई  को दोपहर 12 बजकर 32 मिनट से शुरू होकर बुधवार, 19 मई  को दोपहर 12 बजकर 50 मिनट तक रहेगा।

रिपोर्ट- रुचि पाण्डें, मीडिया  दरबार

 

 

 

 

 

 

 

शेयर करें
COVID-19 CASES