पर्यटन

चोपता…..हिमालय की गोद में बसा एक पर्वतीय क्षेत्र|

चोपता

जब भी आप लोग किसी छुट्टी की योजना बनाते है, तो सबसे पहले आपको हिल स्टेशनों की ही याद आती है, ऐसे में हिल स्टेशनों पर पर्यटकों की भीड़ उमड़ जाती है | और कभी कभी यह भीड़ आपकी शांति और दुनिया से दूर प्रकति के बीच मनाये जाने वाली छुट्टी में बाधा भी डालती है| आप अगर ऐसे किसी हिल स्टेशन की सैर पर जाना चाहते है, जहां आप भीड़ भाड से दूर बसे प्रकृति की गोद में अकेले समा जाना चाहते हो, तो हमारे पास आपके लिए उसका भी हल है | जी हाँ, हम बात करने वाले हैं,उतराखंड राज्य के रुद्रप्रयाग जिले में बसे छोटे से हिल स्टेशन चोपता की |

चोपता एक ख़ूबसूरत हिमालय की गोद में बसा पर्वतीय क्षेत्र है जो उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में आता है और यह समुंदरी तल से 2680 मीटर की उचाई पर स्तिथ है | अगर आप ट्रेकिंग का शौक रखते है, तो मानो चोपटा आपके लिए ही बना है| इसके चारो और पहाड़िया और जंगल ही आपको नजर आएगे साथ ही प्रक्रति का वो अद्भुत नजारा भी नजर आएगा जो आपके मन को मोह लेगा | दिल्ली और मुंबई की भीड़ भाड से दूर आप यहाँ दिन के उजाले में बर्फ की ठंडी चादर और उड़ते बादल देखेगे जो आपको काफी आकर्षित करेगे, साथ ही आपके हर तीसरे कदम की दुरी पर पहाड़ो से निकलते बड़े झरने भी दिखाई देगे | चोपता को उतराखंड का मिनी स्विद्ज़ेर्लैंड भी कहा जाता हैं|

यहाँ से सबसे नजदीक जगह तुंगनाथ है, जो कि काफी प्रसिद्द है और भगवान् शिव को समर्पित है| यह प्राचीन मंदिर तुंगनाथ माउंटेन रेंज में स्तिथ है, जो की समुन्दर ताल से 3680 मीटर की ऊंचाई पर है और दुनिया में सबसे ज्यादा उचाई पर स्तिथ शिव मंदिर के रूप में जाना जाता है|

खरीदारी: वहां की स्थानीय दुकानों से आप पहाड़ी कपडे खरीद सकते हैं | जो आपको ठण्ड से बचाएगे|

प्रसिद्द आकर्षण केंद्र: केदारनाथ मंदिर एक प्रसिद्ध और लोकप्रिय धार्मिक स्थल है| जो चोपता से मात्र 45 किलोमीटर की दुरी पर स्तिथ है|  चंद्शिला,बनियाकुंड,कालीमठ मंदिर,देवरिया ताल, इन सब जगहों पर जाकर आप अपनी शाम को सुहावना कर सकते हैं |चोपता में टूरिस्ट ट्रेकिंग के अलावा कैम्पिंग, योग,रॉक क्राफ्ट,स्नो स्किंग,रॉक क्लाइम्बिंग जैसी बहुत सी एक्टिविटीज कर सकते हैं|

कैसे पहुच सकते हैं आप: आप यहाँ बाय ट्रेन,रोड और एयर से जा सकते हैं | दिल्ली से चोपता लगभग 500 किलोमीटर की दुरी पर है, और देहरादून से 215 किमी के दुरी पर है| अगर आप सड़क मार्ग से जाना चाहते है तो आपको लगभग 10 घंटे का सफ़र तय करना पड़ सकता हैं | अगर आप फ्लाइट की सुविधा लेना चाहते हैं, तो यहाँ से सबसे नजदीक देहरादून में स्तिथ जॉली ग्रांट हवाई अड्डा चोपता से 226 किमी की दुरी पर स्तिथ एअरपोर्ट है | नई दिल्ली इंदिरा गांधी अंतरास्ट्रीय हवाई अड्डे से, यहाँ के लिए रोजना फ्लाइट सुविधा हैं| अगर आप ट्रेन से जाना चाहते हैं तो यहा का सबसे नजदीक रेलवे स्टेशन ऋषिकेश में हैं| चोपता पहुचने के लिए आप हरिद्वार,देहरादून और ऋषिकेश से बस सेवा का लाभ भी ले सकते हैं.

कहा ठहर सकते है: यहाँ आपको यहा कई छोटे-बड़े होटल्स और कमरे मिल जाएगे | उनमे से कुछ होटल्स क नाम है होटल अल्पाइन एडवेंचर कैंप, होटल मैगपाई टूरिस्ट विलेज, मायादीप हर्बल रिसोर्ट, चौहान गेस्ट हाउस | साथ ही कई तरह के टेंट्स भी मिल जाएगे, जहां आप कम खर्च में भी ठहर सकते हैं और प्रकर्ति का लुत्फ़ उठा सकते हैं|

शिवांश कैफ़े एन रेस्तरो हैंगआउट के लिए बहुत अच्छा कैफ़े है जिसमे आप अपने दोस्तों के साथ बैठकर एक अच्छी शाम बिता सकते हैं

चोपता जाने का सही समय: मानसून के शुरूआती दिनों में और गर्मियों में यानी यहाँ मार्च से जुलाई तक जा सकते हैं | यह समय हिल स्टेशन की यात्रा के लिए सबसे अच्छा माना जाता हैं | मानसून के बाद भारी बर्फ़बारी के कारण यात्रियों को सर्दियों के समय यहाँ की यात्रा करने से बचना चाहिए |

नेहा परिहार

मीडिया दरबार

शेयर करें
COVID-19 CASES