धार्मिक

जगन्नाथ मंदिर देखने में सुंदर और उतना ही रहस्यमयी भी

जगन्नाथ मंदिर देखने में सुंदर और उतना ही रहस्यमयी भी

जग्गनाथ पूरी मंदिर

जगन्नाथ मंदिर देखने में जितना सुंदर उतना ही रहस्यमयी भी है। यह चारों धाम में से एक माना जाता है। उड़िसा में यह समुद्र तट के किनारे बना मंदिर लोगों का आकर्षण का केंद्र और आस्था का प्रतीक बना हुआ है। इस मंदिर में लाखों श्रध्दालु दर्शन करने आते है। 800 साल से पुराने इस मंदिर से बहुत सी हैरान कर देने वाले रहस्य जुड़े है, जो किसी को भी आश्चर्यचकित कर देते है। चलिए जानते है उन रहस्यों के बारे में –

पहला रहस्य शिखर पर लगा झंडा – जगन्नाथ मंदिर का सबसे बड़ा रहस्य मंदिर पर लगा ध्वज ही है क्योंकि यह कभी भी हवा की दिशा में नहीं लहराता ये हमेशा हवा के विपरीत दिशा में ही लहराता है।

2)सुदर्शन चक्र – मंदिर पर लगा सुदर्शन चक्र जिस दिशा से जिस ओर से खड़े हो कर देखो वो सम्मुख ही लगता है।

3) कहते हैं कि मंदिर के अंदर समुद्र की लहरों की आवाज किसी को भी सुनाई नहीं देती है, जबकि समुद्र पास में ही है। जो भी भक्त गण यहाँ दर्शन करने आता है उसे मंदिर के अंदर समुद्र की लहरों की आवाज़ नहीं सुनाई देती जबकि मंदिर के बाहर पैर रखते ही उसे समुद्र की लहरों की आवाज़े लगती है।

4)  मंदिर के शिखर पर कभी कोई पक्षी नहीं देखा गया, आमतौर पर मंदिर के आसपास पक्षी देखने को मिल ही जाते है पर जगन्नाथ मंदिर पर आज तक कभी कोई पक्षी देखने को नहीं मिला है। इसलिए मंदिर के ऊपर से जहाज उड़ाना भी मना है।

5) मंदिर की भव्य रसोई- जगन्नाथ मंदिर की रसोई दुनिया की सबसे बड़ी रसोई मानी गई है । इस मंदिर में 500 रसोईऐ और 300 सहायक काम करते है। यहां कभी भी भोजन कम नहीं पड़ता और जब मंदिर समाप्ति का समय होता है तो भोजन अपने आप ही समाप्त हो जाता है।

 

देखे विडियो

 

यह भी पढ़े : चार धाम यात्रा का बना रहे है प्लान तो पहले सुन ले उत्तराखंड हाई कोर्ट का ये ऐलान !!

 

रिपोर्ट- रुचि पाण्डें, मीडिया दरबार

 

 

शेयर करें
COVID-19 CASES