मनोरंजन

मीना कुमारी : एक ऐसी एक्ट्रेस, जिसे पैदा होते ही पिता छोड़ आये थे अनाथालय !

मीना कुमारी कि कहानी

‘टुकड़े टुकड़े दिन बीता, धज्जी धज्जी रात मिली,

जिसका जितना आंचल था, उतनी ही सौगात मिली’

शायद आपको यकीन भी ना आये, लेकिन ये आशार,

खुद लिखे हैं महान अभिनेत्री मीना कुमारी ने…

इसे भी पढ़े:-शहनाज गिल एक बार फिर हुई वायरल जाने इस बार क्या हैं कारण ?

एक छोटी सी नन्ही बच्ची, जिसके पैदा होते ही, उसके पिता, उस बच्ची को यतीमखाने की सीढ़ियों पर छोड़ कर आ गए, लेकिन आगे चल कर, यही नन्हीं सी बच्ची, एक ऐसी महान अभिनेत्री, गायिका और शायरा बनीं, जिन्होनें अपनी दमदार एक्टिंग के दम पर, एक साथ, 3-3 फिल्मफेयर पुरस्कार जीते, वो भी अलग अलग फिल्म के लिए|

भारतीय सिनेमा इंडस्ट्री कि ट्रेजेडी क्वीन

मीना कुमारी
Image Source-Social Media

भारतीय सिनेमा इंडस्ट्री में इन्हें, “ब्लैक एंड वाइट एरा” की इकलौती, “ट्रेजेडी क्वीन” कहा जाता है. यही हैं, बॉलीवुड की महान कलाकार मीना और यह भी बता दूँ, की इनका असली नाम था महज़बीं बानो|

आज बात होगी एक्ट्रेस की, जिनकी उस समय की ज़बरदस्त हिट फ़िल्में थी, साहब बीबी और गुलाम, पाकीज़ा,  दिल अपना और प्रीत पराई और बैजू बावरा और इन फिल्मों में, उन्होंने ज़्यादातर सीरियस किस्म के किरदार ही निभाए हैं. लेकिन क्या आपको पता है, कि इनका  असली नाम महज़बीं बानो था ?

1 अगस्त 1933 के दिन, एक बेहद गरीब मुस्लिम परिवार में, मीना कुमारी का जन्म हुआ अनपढ़ होने की वजह से, और रुढ़िवादी परम्पराओं को मानने के कारण,इनके पिता एक बेटी नहीं, बल्कि, एक बेटे का जन्म चाहते थे|

नतीजतन, जन्म के तुरंत बाद मीना कुमारी को परिवार वालों ने एक यतीमखाने की सीढ़ियों पर छोड़ आये, हालांकि कुछ समय के बाद इनकी मां के खूब रोने और  जिद करने पर, परिवार वालों को अपनी गलती का अहसास हुआ, और वो मीना को अनाथालय से वापस घर ले आए|

मीना के पिता अली बक्श एक थियेटर में काम करते थे अली बक्श की दूसरी पत्नी ही मीना की मां थीं. वो एक क्रिश्चियन थीं| मीना की मां ने एक बार फिर, अपना धर्म बदला, इस्लाम कुबूल किया और अपना नाम प्रतिभा से बदल कर, इकबाल बेगम रख लिया|

महज़ 6 साल कि उम्र में फिल्मों में काम करना किया शुरू

मीना कुमारी
Image Source-Social Media

इकबाल बेग़म भी अभिनय किया करती थी और एक स्टेज डांसर के तौर पर काफी प्रसिद्ध थी| मीना ने महज़ 6 साल की छोटी सी उम्र से ही फिल्मो में काम करना शुरू कर दिया था, जिसकी वजह से वो कभी स्कूल नही जा पाई|

मीना ने एक जाने- माने निर्देशक  कमाल अमरोही से निकाह किया, उस ज़माने में उनकी पहली मुलाकात ‘तमाशा’ नामक फिल्म की शूटिंग के दौरान हुई. इस मुलाकात के बाद अमरोही ने, मीना को अपनी फिल्म में काम करने का ऑफर दिया, और तभी से उनके बीच प्यार हुआ और दोनों ने 1 साल बाद, सबसे छुपकर 14 फरवरी के दिन निकाह कर लिया|

इस निकाह की खबर, केवल करीबी दोस्तों और मीना की बहन को ही थी, जिस समय इन दोनों ने ये निकाह किया था, उस समय मीना केवल 19 वर्ष की थी और अमरोही 34 वर्ष के थे मीना, कमाल अमरोही की दूसरी पत्नी थी|

कमाल अमोरोही से कि शादी लेकिन चल नहीं पाई

मीना कुमारी
Image Source-Social Media

एक समय ऐसा भी आया, जब कमाल अमरोही को ये भी बुरा लगने लगा, कि मीना फिल्मों में काम कर रही हैं, और तरह-तरह के लोगों से मिल रही हैं| मीना पर उनके पति ने कई तरह की पांबदियां लगा दीं हालाँकि, मीना कुमारी ने अपनी शादी को, कायम रखने के लिए, हर तरह की कोशिशें की, लेकिन अपने पति की पाबंदियों से तंग आकर, 1964 में मीना ने उनसे अलग होने का फैसला ले लिया|

पति से अलग होने के बाद  मीना एकदम अकेली सी हो गईं, उस समय इनका नाम गुलजार, धर्मेंद्र और यहाँ तक कि, फिल्म निर्माता-निर्देशक सावन कुमार के साथ भी जोड़ा गया, मगर मीना कुमारी की किस्मत को कुछ और ही मंजूर था|

कमाल अमरोही को अपने किए पर पछतावा हुआ, उन्होंने मीना कुमारी से दोबारा निकाह करना चाहा, लेकिन इस्लामी धर्म गुरुओं ने निकाह नहीं होने दिया और मीना को “हलाला” प्रथा को अपनाने को कहा, जिसकी वजह से, कमाल अमरोही को उनका निकाह, एक्ट्रेस जीनत अमान, के पिता “अमानउल्ला खान” से करवाना पड़ा।

बाद में मुस्लिम प्रथा के अनुसार, नए पति “अमानउल्ला खान” से तलाक मिलने के बाद, मीना कुमारी ने कमाल अमरोही से दोबारा निकाह किया। इस वजह से भी उस ज़माने में भी, मीना कुमारी को तीन तलाक, और हलाला जैसी प्रथाओं का सामना करना पड़ा. और इसी बात पर उन्होंने लिखा :-

‘धर्म के नाम पर मुझे दूसरे मर्द को सौंपा गया

तो मुझमें और वेश्या में क्या फर्क रह गया।’

मशहूर निर्माता निर्देशक बी आर चोपड़ा ने साल 1982 में इस सब्जेक्ट पर एक फिल्म बनाई “निकाह”, जो बेहद कामयाब और चर्चित फिल्म रही|

जब मीना कुमारी अपने पति से अलग हुई थी, तब उन्हें नींद नही आने की बीमारी हो गई थी तभी मीना कुमारी के डॉक्टर ने उन्हें नींद की दवा के साथ कभी कभी ब्रांडी पीने की सलाह दी|

मौत का कारण बना शराब

मीना कुमारी
Image Source-Social Media

डॉक्टर की सलाह से आगे बढ़ते हुए, मीना कुमारी शराब का सेवन करने की आदि हो गई, और धीरे धीरे और बीमार रहने लगी. वैसी ही हालत में वो फिल्मो में काम करती रही, और खुद पर ध्यान देना ही छोड़ दिया|

इसे भी पढ़े:-मालदीव में छुट्टियां मना रहीं सुरभि ज्योति,

फिल्म पाकीज़ा में, मीना कुमारी की हालत काफी बिगड़ गई तभी भी उन्होंने हार नही मानी और लगातार काम करतीं रहीं पाकीज़ा की रिलीज़ के कुछ हफ्तों बाद ही मीना कुमारी, महज़ 39 साल की उम्र में ही इस दुनियां को अलविदा कह गई|

रिपोर्ट- रौनक सिद्दकी 

मीडिया दरबार 

शेयर करें
COVID-19 CASES