Uncategorized विचार

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कोरोना वैक्सीन से हुई 2 लोगों की मौत

स्वास्थ्य मंत्रालय ने साँझा की जानकारी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को बताया कि देश में अब तक 3,81,305 लोगों को कोविड-19 से बचाव के टीके दिए गए इनमें से 1 लाख 48 हजार 266 लोगों को सोमवार को शाम पांच बजे तक टीका लगाया गया|

लेकिन देशभर में कोरोना के टीके लगाये जाने के बाद अबतक कुल 580 लोगो में इन टीको के साइड इफेक्ट  के मामले सामने आए हैं। जिनमे से 7 लोगो की ज्यादा हालत ख़राब होने पर उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है|

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कोरोना वैक्सीन के साइड इफ़ेक्ट

स्वास्थ्य मंत्रालय
image source-social media

इसके अलावा स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि कोविड-19 वैक्सीन दिए जाने के बाद उत्तर प्रदेश और कर्नाटक में दो लोगों की मौत के मामले सामने आए हैं|

लेकिन इस मामले पर मंत्रालय ने कहा कि उत्तर प्रदेश में रहने वाले व्यक्ति की मौत टीकाकरण से नहीं हुई है| पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है मंत्रालय की ओर से बताया गया कि उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद के रहने वाले व्यक्ति को 16 जनवरी को टीका लगाया गया था और उसकी मृत्यु 17 जनवरी को हुई|

इसे भी पढ़े:-Pakistan में पीएम मोदी की तस्वीरों के साथ क्यों हुआ प्रोटेस्ट

तीन डॉक्टरों के बोर्ड द्वारा किए गए पोस्टमार्टम में पता चला है कि इस शख्स की मृत्यु ह्रदय और फेफड़ों से संबंधित रोग के चलते हुई| इसका वैक्सीन से संबंध नहीं है|

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक डरने की नहीं है जरुरत

स्वास्थ्य मंत्रालय
image source-social media

इसके अलावा कर्नाटक के रहने वाले शख्स को 16 जनवरी को कोरोना का टीका लगाया गया था और इस शख्स की मृत्यु 18 जनवरी को हुई है इसकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट अभी तक सामने नहीं आई है|  इसलिए इस विषय पर अब तक कुछ नहीं कहा जा सकता?

यहाँ ये देखा गया है की वैक्सीनेसन को लेकर देश में पहले से ही कई आशंकाए जारी थी ऐसे में इसके साइड इफ़ेक्ट की खबरों से लोगो के मन में डर कायम होना जाहिर है|

इसे भी पढ़े:-NDTV को सरकार का नोटिस Ravish Kumar ने प्राइम टाइम में बताया गलत आंकडा

लेकिन यहाँ हम आपको बता दे की किसी भी तरह की वैक्सीनेसन के अलग अलग शरीरों पर अलग अलग प्रभाव होते है शुरवाती दौर में इस तरह के साइड इफेक्ट्स देश में पोलियो के टीकाकारण के समय भी समने आये थे

अब यहाँ आपको एक अहम् जानकारी भी दे देते है भारत में कोरोना की वैक्सीन बनाने वाली दो कम्पनियों में से एक कोवैक्सीन बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक की तरफ से कहा गया है कि वैक्सीन लगने पर किसी भी तरह का गंभीर प्रभाव सामने आने पर कंपनी की ओर से मुआवजे का भुगतान किया जाएगा।

लेकिन यह बात साबित होनी चाहिए कि टीका लगवाने वाले वयक्ति में गंभीर प्रभाव वैक्सीन लेने के कारण ही हुआ है। वैक्सीनेशन सेंटर पर उपलब्ध सहमति पत्र में मुआवजे की बात का प्रमुखता से उल्लेख किया गया है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार वैक्सीन के गंभीर साइ़ड इफेक्ट्स होने पर सरकार की तरफ से लिस्टेड और ऑथोराइज्ड सेंटर्स या अस्पतालों में इलाज करवाया जाएगा। इसलिए लोगो को इससे घबराने की जरूरत नहीं है|

रिपोर्ट-पूजा पाण्डेय

मीडिया दरबार

 

 

 

 

 

शेयर करें
COVID-19 CASES