राजनीति

हैदराबाद चुनाव पर BJP का फोकस क्यों?

रिपोर्ट- रुचि पाण्डें, मीडिया दरबार-

हैदराबाद चुनाव 

देश में किसान परेशान है नया किसान बिल उन्हें समझ नहीं आ रहा, सरकार से लगातार बात करने की सिफारिश की जा रही है। लेकिन किसान जो देश का अन्न दाता है उसकी बात सुनने के बजाय उस पर लाठियां बरसाई जा रही है, ठिठुरती ठंड में पानी की बौछार की जा रही है। इस बीच अब सरकार का ध्यान किसानों पर कम और हैदराबाद के निकाय चुनाव पर ज्यादा है। बीजेपी ने हैदराबाद के लोकल चुनाव के लिए अपने कई नेता भी उतारे है। भारतीय जनता पार्टी के यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ हो या अध्यक्ष जे पी नड्डा, या फिर बीजेपी के कौटिल्य कहे जाने वाले अमित शाह सभी हैदराबाद की सर ज़मी पर अपना बेहतर प्रदर्शन कर हैदराबाद  चुनाव में भगवा रंग चढ़ाने के प्रयासों में जुट गए है।

बीजेपी का पूरा ध्यान GHMC जैसे चुनाव पर ही क्यों है?  

हैदराबाद के माहौल में चुनावी रंग घुल गया है। यहां ग्रेटर हैदराबाद म्युनिसिपल कॉरपोरेशन या GHMC के चुनाव होने है। जिस तरह प्रधानमंत्री ने देश में लोकल के लिए वोकल होने के लिए आवाहन किया है उसी प्रकार हैदराबाद के लोकल चुनाव के लिए बीजेपी भी वोकल हो गई है। अमित शाह समेत दूसरे भाजपा के दूसरे दिग्गज नेता सिकंदराबाद में रैली करने की तैयारियों में जुटे है तो वहीं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने इससे पहले भाग्यलक्ष्मी मंदिर में जाकर पूजा अर्चना भी की है। अब ऐसे में यहां एक बड़ा सवाल उठता है और वह बड़ा सवाल यह है कि बीजेपी 2021 में जिन 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव होने है उनसे अलग बीजेपी का पूरा ध्यान GHMC जैसे चुनाव पर ही क्यों है?

बीजेपी ने उतारे अपने दिग्गज नेता

बतां दे की तेलंगाना में भारतीय जनता पार्टी के पास 119 में से केवल दो विधायक हैं। वहीं कुल 17 लोकसभा सीटों में से केवल 4 सांसद हैं। बीजेपी ने इस बार चुनाव जीतने के लि अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। हैदराबाद के चुनावी ढांचे की ओर गौर किया जाए तो बतां दे की ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में 150 पार्षद चुने जाने हैं जिन पर शहर में प्रशासन और आधारभूत ढांचे के निर्माण की ज़िम्मेदारी होती है। हैदराबाद के इस चुनाव को लोकल चुनाव इसलिए भी कहा जाता है क्योंकि इन चुनाव में मुद्दें अक्सर ज़मीनी स्तर से ही जुड़े होते है। इमारत व सड़क निर्माण, कूड़े का निपटारा, सरकारी स्कूल, स्ट्रीट लाइट, सड़कों का रखरखाव, शहर योजना, साफ-सफाई और स्वास्थ्य ऐसे मसले हैं जो नगर निगम संभालता है। इस बार 1,122 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। एक दिसंबर को मतदान किया जाएगा और चार दिसंबर को नतीजों की घोषणा होगी।

बीजेपी ने तेलंगाना सरकार के खिलाफ जी की चार्जशीट

बीजेपी ने इस बार अफने दिग्गज नेता उतारे है जिसमें स्मृति इरानी , प्रकाश जावेडकर और तेजस्वी सूर्या का नाम भी शामिल है। प्रकाश जावेड़कर ने इस चार्जशीट में 60 से अधिक आरोप लगाए है। एक लाख नौकरियां ना देना भी शामिल है। बीजेपी के युवा नेता तेजस्वी सूर्या ने चेंज हैदराबाद का भी नारा लगाया और जय श्री राम से अपने भाषण की शुरुआत की। इसी के साथ देवेंद्र फडण्वीस ने भी पार्टी में घोषणापत्र जारी किया है। टीआरएस औऱ आईएमआई के बीच कांग्रेस पार्टी दबी नज़र आ रही है।

तेलंगाना में बीजेपी के विकास की दिशा भी तय करेंगे या नहीं।

बीजेपी इस बार विधानसभा चुनाव को नज़र में रख कर लोकल चुनाव में अपना प्रदर्शन कर रही है। बस इस बार यह देखना है कि क्या बीजेपी मंदिरो में जा कर जय श्री राम के नारे के साथ धार्मिक मोड़ देना चाह रही है। देखना है कि इस बार GHMC के चुनाव हैदराबाद शहर के विकास के साथ-साथ, तेलंगाना में बीजेपी के विकास की दिशा भी तय करेंगे या नहीं।

शेयर करें
COVID-19 CASES