अंतर्राष्ट्रीय

भूख से हो सकती है 20 लाख मौतें- यूएन 

सोमालिया का नाम सुनते ही हमारे दिमाग में एक ही ख्याल आता है| सोमालियाई डाकू, जो समुद्री रास्तों में लूटपाट करने  के लिए पूरी दुनिया में मशहूर हैं| लेकिन नहीं सोमालिया सिर्फ इतना ही नहीं है| सोमालिया एक देश है, बेहद गरीब देश| जो अफ्रीका महादेश में स्थित है| सोमालिया की जनसंख्या लगभग 1.5 करोड़ है| सोमालिया के लोग अपने जीवन यापन के लिए कृषि पर निर्भर करते हैं| लेकिन सोमालिया पिछले कुछ वर्षों से बारिश नहीं होने के कारण सूखे के संकट से गुजर रहा है और यहाँ भयंकर खाद्यान संकट उत्पन्न हो गया है| अन्न के अभाव में वहां का जीवन काफी मुश्किल हो गया

सोमालिया की वर्तमान स्थिति पर यूएन की रिपोर्ट

सोमालिया की वर्तमान स्थिति पर यूएन ने अपनी रिपोर्ट देते हुए कहा है कि सोमालिया भयानक अन्न संकट के दौर से गुज़र रहा है और अगर तत्काल अंतर्राष्ट्रीय सहायता उपलब्ध नहीं हुई तो गर्मी के अंत तक सोमालिया में भूख के कारण लगभग 20 लाख लोगों की मौत हो सकती है| यूएन के अंडरसेक्रेटरी जनरल मार्क लोकॉक ने कहा कि सूखा पड़ने के बाद सोमालिया को करीब 70 करोड़ डॉलर की जरूरत है। बारिश नहीं होने से पशुओं की मौत हो रही है और फसल बर्बाद हो चुकी है। उन्होंने कहा कि यूएन के केंद्रीय आपदा राहत कोष ने सूखे से प्रभावित इथियोपिया और केन्या के साथ-साथ सोमालिया में दैनिक आवश्यकता की चीजों, पानी और खाने की कमी को पूरा करने के लिए 4.5 करोड़ डॉलर की राशि आवंटित की है। मार्क ने कहा कि सोमालिया की आबादी 1.5 करोड़ है, इसमें से 30 लाख लोग सिर्फ भोजन की न्यूनतम आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।
समस्याएँ और भी हैं …..
भोजन की कमी की स्थिति पिछली सर्दियों की तुलना में काफी खराब हो गई है। लोकॉक ने कहा, ‘ऐसे समुदाय जो पहले से ही गरीबी और न्यूनतम आवश्यकताओं की कमी के संकट से जूझ रहे हैं, उनके लिए स्थिति भयावह है। सूखे के कारण भूख और गरीबी का स्तर बहुत अधिक है। लोगों के पास पीने के लिए पर्याप्त पानी तक नहीं है। ऐसे सुमदाय में असाध्य रोगों और महामारी के फैलने का डर भी बना हुआ है।’

सोमालिया समेत कई देशों में जल संकट 
सोमालिया और उसके पड़ोसी देश इथियोपिया और केन्या में पिछले कुछ वर्षों से जल संकट बना हुआ है। पर्याप्त वर्षा नहीं होने के कारण इन देशों में फसल पूरी तरह से बर्बाद हो चुकी है और खाद्यान का संकट गहरा गया है। तीनों देशों के निवासियों के पास खाने और पीने के लिए पर्याप्त साधनों की कमी है।

संयुक्त राष्ट्र की अपील

संयुक्त राष्ट्र ने विश्व समुदाय से तत्काल इस संकट पर ध्यान देने और सहायता के लिए कदम उठाने की जरूरत पर बल दिया।

विश्व में अनेकों ऐसे सक्षम देश है जो इस बुरे वक़्त में सोमालिया की मदद कर वहां होने वाली लाखों संभावित मौतों से उसे बचा सकते हैं|

 

शेयर करें