अंतर्राष्ट्रीय

रॉ और आईबी को मिले नए चीफ

केंद्र सरकार ने देश के दो महत्वपूर्ण ख़ुफ़िया एजेंसीयों रॉ और आईबी के नए प्रमुखों की नियुक्ति की है| यह नियुक्ति 26 जून 2019 दिन बुधवार को की गई|  

रॉ(रिसर्च एंड एनालिसिस विंग)-

रॉ भारत की अंतर्राष्ट्रीय गुप्तचर संस्था है| केंद्र सरकार ने रॉ के नए प्रमुख के रूप में 1984 बैच के पंजाब कैडर के आईपीएस अधिकारी सामंत गोयल को नियुक्त किया है| सामंत गोयल अनिल कुमार धस्माना की जगह लेंगे, जो ढाई साल की सेवा के बाद रिटायर हो रहे हैं|

सामंत गोयल का परिचय- 

पंजाब कैडर के अधिकारी सामंत गोयल शुरू से ही तेज तर्रार अधिकारी रहे हैं| भारतीय पुलिस सेवा के 1984 बैच के अधिकारी श्री गोयल ने 90 के दशक में पंजाब से उग्रवाद को ख़त्म करने में अहम भूमिका निभाई थी| सामंत को पाकिस्तान सम्बंधित मामलों का विशेषज्ञ माना जाता है| भारत पर हुए पुलवामा हमले के बाद बालाकोट एयर स्ट्राइक की रणनीति बनाने में सामंत गोयल ने अहम भूमिका निभाई थी| वर्तमान में पाकिस्तान के साथ भारत के तनावपूर्ण रिश्तों को देखते हुए सामंत गोयल की नियुक्ति काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है|

आईबी(इंटेलिजेंस ब्यूरो)

इंटेलिजेंस ब्यूरो भारत की आतंरिक ख़ुफ़िया एजेंसी है| केंद्र सरकार ने आईबी के नए मुखिया के रूप में अरविंद कुमार की नियुक्ति की है| अरविन्द कुमार राजीव जैन की जगह लेंगे|

अरविन्द कुमार का परिचय-

अरविन्द कुमार 1984 बैच के असम-मेघालय कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं| अरविन्द कुमार को कश्मीर मामलों का विशेषज्ञ माना जाता है| वे कश्मीर मसले को सुलझाने के उद्देश्य से गृह मंत्री अमित शाह के साथ कई बैठकें कर चुके हैं|

वर्तमान में भारत की सुरक्षा से जुड़ी दो सबसे अहम समस्याएँ हैं| एक है पाकिस्तान जनित आतंकवाद और दूसरी समस्या है कश्मीर में घुसपैठ, अलगाववाद और आतंकवाद समर्थित गतिविधियों की, जिसकी जड़ में भी कहीं न कहीं पकिस्तान ही हैं| इन दोनों समस्याओं को सुलझाने के लिए विशेषज्ञ अधिकारियों की नियुक्ति से यह स्पष्ट हो गया है की केंद्र सरकार इन दोनों  बाहरी और आतंरिक समस्याओं को लेकर गंभीर है और इसे सुलझाना चाहती है| इस कार्य में इन अधिकारियों का अनुभव व योग्यता काफी महत्वपूर्ण साबित होगी|  

 

 

 

 

शेयर करें