अंतर्राष्ट्रीय

कोरोना वायरस से निपटने के लिए पाकिस्तान को मिली बड़ी आर्थिक मदद

विश्व बैंक, एशियन डेवलेपमेंट बैंक और अमेरिका ने बढ़ाया मदद का हाथ

वैश्र्विक महामारी कोरोना वायरस से भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान खौफ के साय में जी रहा है। एक तो पहले से ही पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति काफी खराब हो रखी है जिसके बाद पाकिस्तान में कोरोना के प्रवेश में हड़कंप मच गया है।

आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण पाकिस्तान की स्वास्थ्य सेवा काफी बदहाल है और कोरोना की वजह से स्थिति और बिगड़ गई है।

आपको बता दे कि कोरोना से लड़ने के लिए पाकिस्तान के पास पैसा नहीं है और इससे लड़ने के लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अमीर देशों से पाकिस्तान जैसे गरीब देशों की मदद की गुहार लगाई थी। इतना ही नहीं इमरान खान ने विश्व बैंक से 1500 करोड़ की मदद भी मांगीं थी जिसके बाद पाकिस्तान की मदद करने के लिए दो बड़े बैंक साथ आए।

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए पाकिस्तान की आर्थिक मदद की मांग को विश्व बैंक और एशियन डेवलेपेंट बैंक ने स्वीकारते हुए 588 मिलियन डॉलर की मदद का भरोसा दिया है।

आधिकारिक बयान में बताया गया है कि महामारी से लड़ने के लिए विश्‍व बैंक 238 मिलियन डॉलर और एशियन डेवलेंपमेंट बैंक 350 मिलियन डॉलर की रकम पाकिस्‍तान को देंगे।

अमेरिका भी देगा 10 लाख डॉलर की सहायता राशि

अमेरिका ने 20 मार्च (शुक्रवार) को घोषणा की वह कोरोना वायरस से निपटने के लिए दक्षिण एशियाई देशों को यूएसएआईडी कार्यक्रम के तहत पाकिस्तान को 10 लाख डॉलर की मदद करेगा। इस राशि का इस्तेमाल पाकिस्‍तान में कोरोना की निगरानी और उसके रोकथाम के लिए किया जाएगा। अमेरिका ने कहा कि पाकिस्‍तान में कोरोना जैसी महामारी से निपटने के लिए दोनों देश मिलकर काम करेंगे।

अमेरिका के वरिष्ठ राजनयिक एलिस वेल्स ने ट्विटर पर यह घोषणा की अमेरिका-पाकिस्तान सरकार की साझेदारी COVID-19 से लड़ने में मदद कर रही है। अमेरिकी राजनयिक ने आगे कहा कि पंजाब और गिलगित-बाल्टिस्तान में कोरोनोवायरस मामलों की जांच कर रहे सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (सीडीसी) और रोकथाम के लैब 100 से अधिक पाकिस्तानी स्नातक इस काम में जुटे हैं।

शेयर करें