अंतर्राष्ट्रीय

ट्रम्प ने कोरोना के मुद्दे पर WHO और चीन पर लगाए आरोप

कोरोना वायरस के कारण एकतरफ जहां  पूरी दुनिया में तबाही मची हुई है और इस वायरस से मरने वालो की संख्या अबतक 20 हजार को पार कर चुकी है। वहीँ अब अंतरार्ष्ट्रीय राजनीती के गरमाने का अंदेशा भी मिलने लगा है। अमेरिका के  राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन पर एक बड़ा  और गंभीर आरोप लगाया है, जिस कारण आने वाले समय में अमेरिका और चीन के संबंधों में कड़वाहट पैदा हो सकती है।  अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है की  कोरोना वायरस जैसे गंभीर और जानलेवा मसले पर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चीन का पक्ष लिया है और उसे बचाने की कोशिश की है।

व्हाइट हाउस में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर पहले भी कई बार खतरे की घंटे की सामने आती रही हैं, लेकिन WHO ने इसे छुपाया. अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि WHO लगातार चीन का पक्ष लेता रहा और उसे बचाता रहा, अगर दुनिया को पहले इसकी जानकारी होती तो इतनी जान नहीं जाती।

इसके पूर्व  अमेरिकी कांग्रेस मैन ग्रेग ने भी अपने एक ट्वीट में WHO पर आरोप लगाए थे, जिसके बाद ये सवाल खड़ा हुआ था। लेकिन अब  अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा भी इन आरोपों का समर्थन करना चीन के लिए गंभीर साबित हो सकता है।

आपको बता दें की इससे पहले भी डोनाल्ड ट्रंप कोरोना वायरस के मसले पर चीन को  घेरते रहे हैं। ट्रम्प ने कोरोना वायरस को चीनी वायरस तक कह दिया है।  ट्रंप के अनुसार ये वायरस चीन से आया है, चीन की वजह से फैला है और इसीलिए यह चीनी वायरस है।

दुनियाभर में मौत का पर्याय बने कोरोना ने दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका में भी  हाहाकार मचाया हुआ है। इस वायरस की वजह से यहां नेशनल इमरजेंसी का ऐलान किया जा चुका है और अबतक 1000 से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। अमेरिका में अभी 68 हजार से अधिक एक्टिव केस दर्ज हैं, ऐसे में अमेरिका पर अभी बड़ा खतरा बना हुआ है।

पंकज कुमार, मीडिया दरबार

शेयर करें